Heart Touching Love Story- "पागल आशिक और उसका प्यार "

No Comments
"Must read please heart touching love story"

पागल आशिक "•••और उसका प्यार 

Heart Touching Love Story- "पागल आशिक और उसका प्यार "
एक पागल आशिक था राज.उसे अपनी प्रेमिका पल्लवीँ से बहुत प्यार था.पल्लवीँ को भी राज से बहुत प्यार था.
राज से फोन परबाते करती थी,
दोनों हमेशा मिलते भी थे।
लेकिन जल्दही अब कॉलेज खत्म होने वाला था,
और दोनों जुदा होने वाले थे,
लेकिन दूर नहीं होना चाहते थे।
इधर पल्लवीँ के घर पर शादी के लिए लड़का भी देखना शुरू हो गया था।
दोनों परेशान पल्लवीँ ने अपने घर पर राज के बारे में जैसे ही कुछ बोला घर के लोग बिना कुछ सोचे समझे आग बबूला हो गये।
माँ – तू अपने बाप का नाक कटवाओगी,
पिता – ये तूक्या कह रही है दो दिन से मिले लड़के के लिए हमें छोड़ दोगी,
भाई – अगर दुबारा तेरी जबान चली ना तो काट दूंगा.मैने पहले ही बोला था कॉलेज मत भेजो इसी तरह से अनेक कमेंट इतनी सारी बाते सुन कर पल्लवीँ रो पड़ी,और रोते–रोते उसे कब नींद आ गई पता ही नहीं चला,जब नींद खुली तो देखा
माँ सर में ठंडे तेल से मालिश कर रही थी.
उसके बाद समझाने लगी.
माँ – बेटी ये प्यार-व्यार केवल फिल्मों के लिए है लेकिन असली जिन्दगी में इन सब बातों से कोई मतलब नही है.
पल्लवीँ – लेकिन माँ वो मुझे अपनी जान से अधिक चाहता है
.माँ – क्या हम तुम्हे अपनी जान से अधिक नही चाहते तुम्हारी एक-एक ख्वाइस पूरी की है मै
.मैने अपना ख़ुद का खाना तुम्हें खिलाया है तू भूल जा राज को पल्लवीँ – मत रो माँ
माँ – अगर तुम्हारे दिल में मेरे लिए थोडी सी जगह है तो प्लीज.
अपने पिता और भाई की बात मान ले मैं आंचल फैला कर तुमसे भीख मांगती हूँ पल्लवीँ के पास और कोई चारा नहीं था.
उसने हाँ कह दिया.
तथा राज से छोटी सी बात कि,
सॉरी माफ़ कर देना भूल जाओ मुझे।
फिर मिलना बंद, बात चित भी क्लोज...
राज परेशान होकर एक दिन बहुत मुश्किल से एक छोटे से बच्चे से एक लेटर अपनी पल्लवीँ को भेजा,
अंतिम बार मिलने की ख्वाइस पल्लवीँ ने सोचा ठीक है!
राज – पल्लवीँ मुझसे क्या गलती हो गई. कि आप मुझसे दूर हो गई
पल्लवीँ – कुछ नहीं
राज – तो मुझसे बात क्यों नहीं कर रही हो?
क्यों मुझे तडपा रही हो?
मैंने सुना है आपकी शादी भी हो रही है...
पल्लवीँ – हाँ मेरी शादी हो रही है और आप मुझे भूल जावो!
राज – मैं तुम्हारे बिना मर जाऊंगा, पल्लवीँ –और आशिकों की तरह तुम भी मर जावो...?
और थोड़ा सा जहर लाकर मुझे भी दे दो. मैं भी मर जाऊ....
राज – ऐसी बात मत बोलो
पल्लवीँ – तो क्या बोलू इधर तुम कहते हो मैं मर जाऊ.उधर घर वाले कहते है हम मर जाये सबकी वजह मैं ही हूँ ना मैं ही मर जाती हूँ...
राज – नही नही पल्लवीँ...प्लीज ऐसा मत बोलो
पल्लवीँ – राज समझने की कोशिश करो.
जिन्होंने मुझे चलना सिखाया, हसना सिखाया,जिसने मेरी हर ख़ुशी पूरी की. क्या उनकी ख़ुशी छोड़ कर उन्हें निराश कर,उन्हें मरता छोड़ कर,आपसे शादी कर लू ??राज – लेकिन
पल्लवीँ – मेरी बात मानों ये प्यार की कहानियाँ केवल किताबों के लिए है.ये खून से लिखा तुम्हारा लेटर...क्या है ये..ये केवल कहानियों में शोभा देता है हकीकत में नहीं.
आप भी एक अच्छी लड़की से शादी कर लो.मुझसे एक वादा करो आप आत्महत्या नहीं करोगे नहीं वादा करो,तुम्हें मेरी कसम...
पल्लवीँ अपनी कसम देकर चली गई.
लेकिन जब आप किसी से भी सच्चा प्यार करते है तो उसे भुलाना बहुत मुश्किल होता है.
राज ने बहुत कोशिश की लेकिन असम्भव. रात में हमेशा उसी के सपने आते!
इधर पल्लवीँ के घर का निर्माण हो रहा था और एक दिन एका एक पल्लवीँ एक लोहे के रड पर गिर गई.
वो रड सीने के अन्दर. दिल के अंदर तक चला गया. तुरंत डॉक्टर
डॉक्टर – दस मिनट के अन्दर अगर जिन्दा दिल नहीं मिला तो ये लड़की मर जाएगी...
जल्दी कुछ कीजिए आप लोग..इतना जल्दी दिल मिलना.. असम्भव..
भाई, पिता, माँ, होने वाले पति, सास और ससुर भी परेशान..लेकिन कोई उपाय नहीं!
पल्लवीँ ने केवल पूछा – क्या माँ मैं मर जाउंगी और बेहोश हो गई तभी एक लड़का आया और डॉक्टर से कुछ बात–चित की और झगड़ा भी किया. फिर
डॉक्टर ने कहा – ओके. थोड़े देर में डॉक्टर आये और उस लड़के और पल्लवीँ को ओटी में ले गये.फिर ओपरेशन शुरू...घंटो बाद
डॉक्टर – अब आपकी बेटी खतरे से बाहर है...
पिता –लेकिन दिल का इंतजाम,
डॉक्टर - हो गया..
एक पागल लड़का था.कह रहा था ये मर गईतो मैं आत्महत्या कर लूँगा जिसके जिम्मेवार आप होंगे.
ये मेरी ख़ुशी है...इनके लिए एक जन्म तो क्या सातो जन्म मरने के लिए तैयार हूँ...
मैंने मना भी किया था कि वो ऑपरेशन सफल नहीं भी हो सकता है.
लेकिन वो पागल ज़िद पर अड़ा रहा.
बेचारा अपनी जान देकर आपकी बेटी का जान बचा गया....
माँ – क्या मैं उस इन्सान का नाम जान सकती हूँ. डॉक्टर- नर्स...साइन देख कर बतानाजरा... क्या नाम था.
नर्स – राज
माँ – राज
पिता – राज
भाई – राज..चारो तरफ सन्नाटा.कुछ दिन बाद पल्लवीँ को होश आ गया और उसने दिल के बारे में पूछा.....लेकिन किसी के पास इसका कोई उत्तर नहीं था..
.!शिक्षा – प्यार करना कोई गुनाह नहीं, बशर्ते दोनोंसच्चे हो. किसी भी गलती पर गुस्सा करना अच्छी बातनहीं. पहले उस गलती को अच्छी तरह देखे समझे पहचाने...फिर निर्णय करे,दुनियां में माँ बाप सभी ख़ुशी पूरा करते है लेकिन ये क्यों नहीं ?
आज हम है कल रहेगें या नहीं ये हमे पता नहीं, तो आओ मिलजुल कर दिल से सच्चा प्यार कर ले और दूसरों की मदद करे तथा दूसरों से भी मदद करने के लिए कहे..!
और....
जो इन्सान दिल से बहुत अच्छे होते है उन्हें भगवान अपने पास बहुत जल्द बुला लेता है क्योकिं ऊपर अच्छे लोगों कीबहुत कमी है..!!..!

Dear readers, after reading the Content please ask for advice and to provide constructive feedback Please Write Relevant Comment with Polite Language.Your comments inspired me to continue blogging. Your opinion much more valuable to me. Thank you.