Important Tips : कैसे पता करे की सिम किसके नाम पर रजिस्‍टर्ड है?

Important Tips : कैसे पता करे की सिम किसके नाम पर रजिस्‍टर्ड है?

No Comments

आपका स‍िम क‍िसी और के नाम तो रजिस्‍टर्ड नहीं है

कई बार क्या होता है कि दुकानदार किसी के नंबर पर किसी की आईडी लगा देता है। इसकी वजह से भी गड़बड़ हो जाती थी। अब हम आपको नाम पता करने का तरीका बताते हैं। इसके लिए आपके पास स्मार्टफोन होना जरूरी है। क्योंकि इसका पता एक मोबाइल ऐप से लगाया जाता है इसका पता उसी कंपनीके मोबाइल ऐप से लगाया जा सकता है जिसका नंबर आप इस्तेमाल कर रहे हैं। आइडिया, एयरटेल, वोडाफोन, डोकोमो सभी के ऐप गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद हैं। इन्हें फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है। सभी में सिम ओनर का नाम पता करने का प्रॉसेस बिल्कुल एक जैसा है। यहां हम आपको एयरटेल के सिम ओनर का नंबर पता करने का तरीका बता रहे हैं।  
ये है तीन स्टेप 
  1. प्ले स्टोर में जाकर सबसे पहले My Airtel App डाउलोड कर लें। ऐप डाउनलोड करने के बाद कुछ परमिशन मांगी जाएंगी। जब ऐप्लीकेशन इन्सटॉल होने के लिए परमिशन मांगे तो उन्हें Allow कर दें।
  2. जब ऐप आपके फोन में इन्सटॉल हो जाए, तो इसके बाद अपना मोबाइल नंबर डालना होगा। जैसे ही आप अपना मोबाइल नंबर डालेंगे, तो आपके नंबर पर एक OTP (वन टाइम पासवर्ड) आएगा। यह ओटीपी ऐप में डाल दें। इसे डालने के बाद आपका अकाउंट खुल जाएगा।
  3. अब माय एयरटेल ऐप में सबसे ऊपर लेफ्ट साइड में कोने पर तीन लाइन दिखाई दे रही होंगी। यह आपकी प्रोफाइल है। जब अपनी प्रोफाइल में जाएंगे तो जिसके नाम से नंबर होगा, उसका नाम लिखा आएगा, नाम के साथ नंबर भी लिखा आएगा।

कैसे लें जिंदगी के महत्वपूर्ण निर्णय

Kullu Manali :कब कहा और कैसे घूमे?

No Comments
मनाली  कुल्लू घाटी के उत्तरी छोर के निकट व्यास नदी की घाटी में स्थित, भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य की पहाड़ियों का एक महत्वपूर्ण पर्वतीय स्थल (हिल स्टेशन) है। प्रशासकीय तौर पर मनाली कुल्लू जिले का एक हिस्सा है, सैलानियों का स्वर्ग कहलाने वाली इस जगह में वे सारी खूबियां हैं जो किसी भी पर्यटन स्थल में होनी चाहिए। मनाली और उसके आसपास के हरेभरे क्षेत्र एक तरफ तो आपको सैर करने की दावत देते हैं तो दूसरी ओर ऊंचे-ऊंचे पर्वत पर्वतारोहकों को चुनौती देते हुए लगते हैं। अगर आप अपनी छुट्टियों में और अधिक रोमांच के क्षण चाहते हैं, तो आपके लिए हेली स्कीइंग के सर्वाधिक लोकप्रिय स्थल भी यहां पर हैं।

Best Place To Visit Kullu Manali


कुल्लू- यहां पर प्राकृतिक सौंदर्य बिखरा पड़ा है, कहीं भी चले जाइए आपको निराश नहीं होना पड़ेगा फिर भी रोरिख कला दीर्घा, ऊरुसवती हिमालय लोक कला संग्रहालय और शाम्बला बौद्ध थंगका कला संग्रहालय देखने योग्य हैं। पूजा स्थलों में काली बाड़ी मंदिर, रघुनाथ मंदिर, बिजली महादेरु मंदिर और वैष्णो देवी मंदिर अवश्य देखें।

मनाली - रोहतांग दर्रा, मनाली मनाली में स्कीइंग, वन विहार से व्यास नदी व पर्वतों का दृश्य, घाटी में देवदारु वृक्ष, व्यास नदी, मनाली कोठी, वन विहार, तिब्बती बाजार और माल, रहाला प्रपात, रोहतांग दर्रा, सोलांग घाटी, हिडिंबा देवी मंदिर, जगतसुख मंदिर  इत्यादि दर्शनीय स्थल हैं। मनाली की सोलांग घाटी 300 मीटर की ऊंचाई वाली है जहां हर साल सर्दियों में विंटर स्किईंग फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है। वहीं रोहतांग पास एक पहाड़ी पिकनिक स्‍पॉट है जिसे जिपावेल रोड़ के नाम से भी जाना जाता है। यहां आकर पर्यटक कई प्रकार की साहसिक गतिविधियों  जैसे - पैराग्‍लाडिंग, पहाड़ो पर बाइक चलाना, और स्किईंग को कर सकते है।


नाग्गर किला, जो मनाली के दक्षिण में स्थित है, पाल साम्राज्य का स्मारक है। चट्टानों, पत्थरों और लकड़ियों के विस्तृत कढ़ाईयों से बना यह हिमाचल के समृद्ध और सुरुचिपूर्ण कलाकृतियों का सम्मिश्रण है। इस किले को बाद में एक होटल में परिवर्तित कर दिया गया
हिडिम्बा देवी मंदिर, यह मंदिर अपने चार मंजिला शिवालय एवं विलक्षण काठ की कढ़ाई के लिए जाना जाता है।
रहला झरनें, रोह्तंग मार्ग की चढाई के आरम्भ में मनाली से कुछ 27 कि.मी. (17 मील) पड़ते हैं, ये 2,501 मी की ऊंचाई पर स्थित खूबसूरत रहला झरनें हैं।रहला झरनें से होने वाला वाटर फाल देखकर आप रोमांचित हो जायेंगे, इस बात में दो राय नहीं!
सोलंग घाटी जिसे लोकप्रिय रूप से बर्फ बिंदु (स्नो पॉइंट) के रूप में जाना जाता है, मनाली के 13 किमी उत्तर पश्चिम में है।सोलंग घाटी मनाली के 13 किमी उत्तर पश्चिम में है. इसका असली मजा बर्फ़बारी में ही आता है और यहाँ जाने वाले तो यहाँ तक कहते हैं कि जब यहां बर्फ पड़ती है, तो वहीं ठहर जाने को जी चाहता है.
मानिकरण- कुल्लू से करीब 45 किमी दूर मनाली जाने वाले रास्ते में स्थित है और पार्वती नदी के नजदीक अपने गर्म सोतों के लिए जाना जाता है।

कुल्लू मनाली जाने का बेहतरीन समय 

(best time to visit kullu manali)

कुल्लू मनाली जाने के लिए सबसे अच्छा समय मार्च का माना जाता है, क्योंकि इस माह में मौसम बहुत सुहावना होता है. किन्तु, बर्फ़बारी देखने के लिए बहुत से लोग सर्दियों में भी यहाँ जाते हैं. अगर आप भी उन्हीं लोगों में हैं तो सर्दियों में ऊनी कपड़े ले जाना ना भूलें, क्योंकि इसके बिना ठण्ड आपके घूमने का मजा किरकिरा कर सकती है.ऐसे ही राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग का लुफ्त उठाने वाले पर्यटक जनवरी से मध्य अप्रैल के बीच जाएं तो ज्यादा बेहतर होगा.
How to Reach Kullu Manali
रेल मार्ग
रेल से मनाली पहुंचना इतना आसान नहीं है। सबसे नज़दीकी बड़ी लाइनों के मुख्य रेलवे स्टेशन चंडीगढ़ (315 कि.मी. (196 मील)), पठानकोट (325 कि.मी. (202 मील)) और कालका (310 कि.मी. (190 मील)) में हैं। नज़दीकी छोटी लाइन का मुख्य रेलवे स्टेशन जोगिंदर नगर (135-किलोमीटर (84 मील)) में हैं।
वायु मार्ग
सबसे नज़दीकी वायु सेवाएं, कुल्लू-मनाली विमानक्षेत्र, भुंतर में उपलब्ध हैं, जो मनाली से करीब 50 कि.मी. (31 मील) दूर है। वर्तमान में, किंगफिशर रेड दिल्ली से प्रतिदिन निरंतर सेवाएं संचालित करती है, एयर इंडिया सप्ताह में दो बार निरंतर सेवा प्रदान करती है और MDLR एयरलाइन्स हफ्ते में छ: बार दिल्ली के लिए सेवाएं प्रदान करती हैं।


Joke Of The Day: अगर दिन का 1GB कम पडता है तो पक्का

Joke Of The Day: अगर दिन का 1GB कम पडता है तो पक्का

No Comments
अगर दिन का 1GB कम
पडता है... तो












पक्का तुम भयंकर बेरोजगार 
हो!
Best Thought Of The Day: किसी ने फूल से पूछा

Best Thought Of The Day: किसी ने फूल से पूछा

No Comments

किसी ने फूल से पूछा कि जब 
तुम्हें तोड़ा गया तो तुम्हें 
दर्द नहीं हुआ ,
"फूल ने जवाब दिया तोड़ने वाला 
इतना खुश था कि मैं 
अपना दर्द भी भूल गया
Suvichar In Hindi : त्यागने के लिए "अभिमान" *सर्वश्रेष्ठ है

Suvichar In Hindi : त्यागने के लिए "अभिमान" *सर्वश्रेष्ठ है

No Comments


दुनिया का हर शौंक पाला नही जाता;
कांच के खिलौनों को उछाला नही जाता;
मेहनत करने से मुश्किले
हो जाती है आसान; क्योंकि हर काम तक़दीर
पर टाला नही जाता।
"भाग्य उन्ही पर मेहरबान होता है जो बाँहें चढाकर अपने कंधो को कष्ट देने को तैयार रहते है"
"परिश्रम सौभाग्य की जननी है "
देने के लिये "दान"
लेने के लिये "ज्ञान"
और
त्यागने के लिए "अभिमान" *सर्वश्रेष्ठ है.
Thought Of The Day: घमंड बिल्कुल शराब जैसा है

Thought Of The Day: घमंड बिल्कुल शराब जैसा है

No Comments
" घमंड,"


बिल्कुल शराब जैसा है साहब,

खुद को छोड़कर,सबको पता चलता है कि चढ़ गया है 

वृक्ष कभी इस बात पर व्यथित नहीं होता कि उसने कितने पुष्प खो दिए !वह सदैव नए फूलों के सृजन में व्यस्त रहता  है। जीवन में कितना कुछ खो गया, इस पीड़ा को भूल कर, क्या नया कर सकते हैं, इसी में जीवन की सार्थकता है !       

Shimla मे घूमने वाली जगह और शिमला कैसे पहुचे?

No Comments

Shimla मे घूमने वाली जगह और शिमला कैसे पहुचे?

शिमला ठंडी जलवायु, सुरम्य प्राकृतिक दृश्यों, हिमाच्छादित पहाड़ी दृश्यों, चीड़ और देवदार के जंगलों और औपनिवेशिक वास्तु के आकर्षक शहरी भूदृश्य के लिये विख्यात है।हिमाचल’ प्रदेश का शाब्दिक अर्थ बर्फ़ीले पहाड़ों का अंचल’ है। हिमाचल प्रदेश को देव भूमि भी कहा जाता है।शिमला की पहाड़ियाँ, कुल्लू घाटी (मनाली शहर सहित) और डलहौज़ी पर्यटकों के बड़े आकर्षण हैं। स्कीइंग, गॉल्फ़, मछली पकड़ना, लम्बी यात्रा और पर्वतारोहण ऐसी गतिविधियाँ हैं, जिनके लिए हिमाचल प्रदेश एक आदर्श स्थान है। 

शिमला में लोअर बाजार, लक्कड़ बाजार और तिब्बतियन बाजार से खरीदारी की जा सकती है. लक्कड़ बाजार में लकड़ी से बने खिलौने पर्यटकों को खूब लुभाते हैं शिमला के पास कालका में बड़ा स्टेशन है, जो सभी बड़े स्टेशनों को जोड़ता है. कालका से शिमला छोटी लाइन पर ट्रेन चलती है. ये बच्चों वाली ट्रेन कहलाती है, जो सभी जगह फेमस भी है.

Shimla मे घूमने वाली जगह Best Place To Visit shimla


रिज- शहर के मध्य में एक बड़ा और खुला स्थान, जहां से पर्वत श्रंखलाओं का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। यहां शिमला की पहचान बन चुका न्यू-गॉथिक वास्तुकला का उदाहरण क्राइस्ट चर्च और न्यू-ट्यूडर पुस्तकालयका भवन दर्शनीय है।


समर हिल्स – शिमला में घुमने के लिए ये सबसे बेस्ट प्लेस है, इसे पॉटर हिल भी कहते है. यह एक छोटा सा टाउन है, जो शिमला के मशहूर रिज से 5 किलोमीटर दूर है. यह समुद्र तल से 1283 मीटर उचांई पर स्थित है. यहाँ चारों तरह हरियाली ही हरियाली है. यहाँ उपर से बहुत ही मनमोहक दृश्य देखने को मिलता है. शिमला में 7 मुख्य हिल है, जो शिमला में अत्याधिक फेमस है, समर हिल उनमें से एक है. यहाँ से सनराइज व सनसेट दोनों ही बहुत अच्छा लगता है.

जाखू मंदिर- (2.5 कि॰मी॰) 2455 मी. : शिमला की सबसे ऊंची चोटी से शहर का सुंदर नजारा देखा जा सकता है। यहां "भगवान हनुमान" का प्राचीन मंदिर है। रिज पर बने चर्च के पास से पैदल मार्ग के अलावा मंदिर तक जाने के लिए पोनी या टैक्सी द्वारा भी पहुंचा जा सकता है।

दी स्कैंडल पॉइंट, रिज – ये स्कैंडल पॉइंट के नाम से फेमस है, जो शिमला शहर के बीचों बीच स्थित है. यहाँ से शिमला की हरियाली, बर्फीली पहाड़ी, घाटी सभी दिखाई देता है. बर्फ से ढंकी पर्वत श्रंखला का अद्भुत दृश्य यहाँ से देखने को मिलता है. यहाँ से सनसेट, सनराइज भी अच्छा दिखता है. यहाँ फेमस पुस्तकालय भी है.

नालदेहरा एंड शैली पीक – नालदेहरा समुद्र तल से 2044 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. यहाँ लार्ड कर्ज़न ने गोल्फ कोर्स का निर्माण किया था. घने हरे भरे पेड़, मनमोहक हरियाली यहाँ के वातावरण में जादू सा बिखेर देती है. बर्फ से ढके हिमालय पर्वत को यहाँ से देखा जा सकता है. यहाँ के शांत वातावरण में आप हवा की आवाज को भी सुन सकते है, उसे महसूस कर सकते है. यहाँ घुड़सवारी मुख्य आकर्षण का केंद्र है, जिसके द्वारा आप पुरे हिल को अच्छे से देख सकते है.

चाडविक फॉल –यह शिमला से 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, यहाँ पानी 1586 मीटर उचांई से गिरता है. यह समर हिल के पास ही स्थित है, पैदल चल के जायेंगें तो 45 min में आप रास्ता पार कर लेंगें. झरने के चारों ओर घने हरे वृक्ष है, जो इसकी सुन्दरता और बढ़ाते है. इस झरने के द्वारा ही शिमला में पानी की सप्लाई होती है. मानसून के समय यहाँ पानी का स्तर बढ़ जाता है, जिससे ये और भी अधिक आकर्षक लगता है

कुफरी – यह शिमला से 19 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. यह समुद्र तल से 2622 मीटर ऊंचाई पर है. इसे दी विंटर स्पोर्ट्स कैपिटल भी कहते है. पहले यह नेपाल देश की सीमा के अंतर्गत आता था. यहाँ सर्दियों में विंटर स्पोर्ट्स स्कीइंग और आइस स्केटिंग का लुप्त उठाया जा सकता है.

चैल – यहाँ दुनिया की सबसे अधिक ऊंचाई पर स्थित क्रिकेट पीच है, जिसके चारों ओर एक तरह के समान पेड़ लगे हुए है, जो वातावरण को अनूठा बना देते है. यह फेमस वास्तुशास्त्र चैल पैलेस का घर हुआ करता था. यहाँ से पुरे शहर की सुन्दरता को देखा जा सकता है.

तारा देवी मंदिर – यह मंदिर समुद्र तल से 1851 मीटर ऊंचाई पर स्थित है. यह शिमला से 11 किलोमीटर दूर है. यह एक प्रसिद्ध मंदिर है.

best time to visit shimla

वैसे तो शिमला किसी भी मौसम में घूमने जाया जा सकता है. लेकिन यहां आने का सब से अच्छा समय अप्रैल से जून और अक्तूबर से नवंबर का होता है. अगर आप को बर्फ पर स्कीइंग का शौक है तो जनवरी से मार्च मध्य तक का समय अच्छा है. सर्दी का मौसम स्कीइंग और आइस स्केटिंग का आनंद उठाने के लिए सब से अच्छा होता है जबकि दर्शनीय स्थलों की यात्रा और ट्रैकिंग के लिए गरमी का मौसम आदर्श होता है.